Home / Happy Ganesh Chaturthi 2017 vinayagar ganpati visarjan photos aarti mp3 download hindi marathi english / Ganesh aarti Songs Lyrics Mp3 Ganesh ji ki aarti Free Download in Hindi

Ganesh aarti Songs Lyrics Mp3 Ganesh ji ki aarti Free Download in Hindi

Ganesh aarti Songs Lyrics Mp3 Ganesh ji ki aarti Free Download in Hindi

Ganesh aarti Songs Lyrics Mp3 Ganesh ji ki aarti Free Download in Hindi – गणेश चतुर्थी हिन्दू धर्म का अत्यधिक मुख्य तथा बहुत प्रसिद्ध त्यौहार है। इसे हर साल अगस्त या सितंबर के महीने में बड़े ही उत्साह व धूम धाम के साथ मनाया जाता है। ईश पर्व को भगवान गणेश के जन्म दिवस के रुप में मनाया जाता है। जो माता पार्वती और भगवान शिव के पुत्र है। ये बुद्धि और समृद्धि के भगवान है इसलिये इन दोनों को पाने के लिये लोग इनकी पूजा करते है। लोग गणेश की मिट्टी की प्रतिमा लाते है। चतुर्थी पर इसको घर में रखते है तथा 10 दिन तक उनकी भक्ति करते है और उसके बाद अनन्त चतुर्दशी के दिन अर्थात् 11वें दिन गणेश विसर्जन करते है।

Ganesh aarti Songs Lyrics in Hindi

Ganesh aarti Songs Lyrics Mp3 Ganesh ji ki aarti Free Download in Hindi

Ganesh ji ki aarti in Hindi Free Download
Play

👇 Ganesh Aarti Songs Mp3 Free Download

Download Ganesh ji ki arti

 

Ganesh aarti Songs Lyrics Mp3 Ganesh ji ki aarti Free Download in Hindi

श्लोक 👇

व्रकतुंड महाकाय, सूर्यकोटी समप्रभाः |
निर्वघ्नं कुरु मे देव, सर्वकार्येरुषु सवर्दा ||

Ganesh aarti Songs Lyrics  in Hindi

आरती 👇

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा
माता जाकी पार्वती पिता महादेवा

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा
माता जाकी पार्वती पिता महादेवा

एक दिन दयावन्त चार भुजा धारी
मस्तक सिन्दूर सोहे मुसे की सवारी

पान चढ़े फूल चढ़े और चढ़े मेवा
लड्डू अन का भोग लागो सन्त करे सेवा

अन्धन को आँख देत कोढ़िन को काया
बांझन को पुत्र देत निर्धन को माया

हार चढ़े फूल चढ़े और चढ़े मेवा
‘ सूरश्याम ‘ शरण आए सुफल कीजे सेवा

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा
माता जाकी पार्वती पिता महादेवा

विध्न – हरण मंगल – करण, काटत सकल कलेस
सबसे पहले सुमरिये गौरीपुत्र गणेश

आरती के समय भगवान गणेश को फूल और दूब चढ़ाए जाते हैं तथा नारियल, खांड, 21 मोदक का भोग लगाया जाता है।

☞☞ गणेश चतुर्थी के बारे में और अधिक जानकारी यहां से पढ़ें  ☜☜

दस दिन तक गणपति विराजमान रहते हैं और हर दिन सुबह शाम षोडशोपचार की रस्म होती है। 11वें दिन पूजा के बाद प्रतिमा को विसर्जन के लिए ले जाया जाता है। कई जगहों पर तीसरे, पांचवे या सातवें दिन गणेश विसर्जन किया जाता है।

Leave a Reply